Stop Loss Meaning in Hindi | स्टॉप लॉस क्या है?

Stop Loss Meaning in Hindi : जैसा कि आप लोगों को मालूम है कह दिया आप शेयर मार्केट में पैसे निवेश करते हैं तो आप लोगों ने स्टॉप लॉस का नाम जरुर सुना होगा  शेयर मार्केट के क्षेत्र में स्टॉपलॉस एक टेक्निकल शब्द के रूप में इस्तेमाल होता है और इसके द्वारा शेयर मार्केट में नुकसान से बचा जाता है इसके द्वारा आप अगर कोई भी शेयर खरीदने हैं।

अगर आपने उसे पर स्टॉप लॉस लगा दिया है तो आपको वहां पर नुकसान कम होगा अगर शेर के दाम तेजी के साथ नीचे गिरते हैं तो ऐसे में लोगों के मन में साल आएगा कि स्टॉपलॉस का हिंदी में क्या अर्थ होता है अगर आप इसके बारे में नहीं जानते हैं तो आर्टिकल को ध्यान से पढ़िएगा तभी जानकारी मिल पाएगी चलिए जानते हैं।

Stop Loss Meaning in Hindi 

Stop Loss Meaning in Hindi

शेयर मार्केट के क्षेत्र में स्टॉप लॉस एक महत्वपूर्ण टेक्निकल शब्द है इसका मतलब होता है कि नुकसान को रोकना उदाहरण के लिए यदि आपने कोई शेयर खरीदा है और अगर आप उसे पर स्टॉप लॉस लगा देते हैं तो आप नुकसान से अपने आप को बचा सकते हैं क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि आपने जो शेयर खरीदा है उसमें तेजी के साथ गिरावट आती है अगर आप स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करेंगे तो आपको नुकसान कम होगा।

स्टॉप लॉस लगाना क्यों जरूरी है?

जैसा कि आप लोग जानते हैं कि शेयर बाजार में पैसे लगाना काफी  जोखिम भरा काम होता है ऐसे में अगर आप शेयर बाजार में पैसे टेक्निकल एनालिसिस और शेयर बाजार संबंधित जो भी आवश्यक टूल्स है उसके माध्यम का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो आपको नुकसान का सामना करना पड़ेगा यही वजह है।  शेयर मार्केट में पैसे वाले लगाने वाले लोग स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करते हैं ताकि नुकसान से बचा जा सके शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने वाला Traders स्टॉप लॉस का इस्तेमाल अधिकांश करता हैं।

स्टॉप लॉस के प्रकार (Types Of Stop Loss )

स्टॉप लॉस तीन प्रकार के होते हैं जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं आईए जानते हैं।

प्रतिशत आधारित स्टॉप-लॉस

जैसा कि आप लोग जानते हैं कि ट्रेडिंग करने वाला व्यक्ति टेक्निकल एनालिसिस करने के बाद ही अपने पैसे शेयर मार्केट में लगता है ताकि उसे नुकसान कम हो ऐसे में जब भी कोई व्यक्ति प्रतिशत आधारित स्टॉपलॉस तरीके से पैसे निवेश करता है तो अपने नुकसान और फायदे को प्रतिशत के रूप में ही कैलकुलेट करता है।

इस प्रकार के स्टॉप लॉस में कोई भी व्यक्ति 7 से 8% तक का स्टॉप लॉस लगता है ताकि अगर उसे नुकसान हो भी तो काम हो सामान्यतः इस प्रकार के स्टॉप-लॉस को फ्यूचर & आप्शन ट्रेडिंग में अधिक प्रयोग किया जाता है।  फ्यूचर और ऑप्शन में अधिक से बहुत ज्यादा होता है यही वजह है कि इस प्रकार के स्टॉप लॉस का इस्तेमाल होता है ताकि नुकसान से बचा जा सके।

सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस पर आधारित स्टॉप-लॉस

शेयर बाजार में हमेशा उतार-चढ़ाव के कारण शेयर बाजार के चार्ट में कई प्रकार के बदलाव देखे जाते हैं यदि आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते हैं तो आप सपोर्ट तथा रेजिस्टेंस आपको स्टॉप-लॉस भीम का इस्तेमाल कर सकते हैं इसके माध्यम से आप किसी भी कंपनी शेयर को उसके सपोर्ट के लेवल पर खरीदते है तो आपको सपोर्ट के लेवल से थोडा निचे का स्टॉप लॉस लगाना पड़ता है।

इसके अलावा यदि आप रेजिस्टेंस लेवल पर शेयर में बिकवाली करते है तो आपको रेजिस्टेंस लेवल से  थोड़ा ऊपर आपको स्टॉप लॉस लगाना होगा

पैटर्न आधारित स्टॉप लॉस

जब कोई ट्रेडर, कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न या कैंडलस्टिक पैटर्न को आधार मानकर ट्रेड करता है तो इस प्रकार के पैटर्न स्वयं ही स्टॉप लॉस और टारगेट का निर्धारण कर लेते हैं आपको कुछ करने की जरूरत नहीं है और इन पैटर्न में आपको स्टॉप लॉस के लिए अलग से विचार करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

कुछ प्रमुख कैंडलस्टिक पैटर्न :- मारुबोजू कैंडलस्टिक पैटर्न , डोजी कैंडलस्टिक पैटर्न, हैमर कैंडलस्टिक पैटर्न, शूटिंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न, हैंगिंग मैंन कैंडलस्टिक पैटर्न , इन्वर्टेड हैमर कैंडलस्टिक पैटर्न, मोर्निंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न, इवनिंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न, पियर्सिंग कैंडलस्टिक पैटर्न, डार्क क्लाउड कवर कैंडलस्टिक पैटर्न, बुलिश एन्गाल्फिन कैंडलस्टिक पैटर्न, बेयरिश एन्गाल्फिन कैंडलस्टिक पैटर्न, बुलिश हरामी कैंडलस्टिक पैटर्न, बेयरिश हरामी कैंडलस्टिक पैटर्न  शामिल है।

स्टॉप लॉस कैसे लगाया जाता है?

स्टॉप लॉस कैसे लगाया जाता है तो हम आपको बता दे की स्टॉप लॉस ऑर्डर को मार्केट ऑर्डर या लिमिट ऑर्डर की तरह आप इस्तेमाल कर सकते हैं दोनों के बारे में हम जानेंगे चलिए जानते हैं

  • अगर आप स्टॉप लॉस को market order की तरह लगाएंगे तो हमें बस उसमें एक ट्रिगर प्राइस सेट करना होगा  इस प्रकार के स्टॉप लॉस को,  stoploss market order कहते हैं।  इस प्रक्रिया में जैसे ही आपने जो ट्रिगर प्राइस यहां पर लगाया है जैसे ही वह आएगा आपका स्टॉपलॉस एक्टिव हो जाएगा ताकि आप नुकसान से बच सके
  • अगर हम अपने स्टॉप लॉस ऑर्डर को limit order की तरह लगाएंगे तो  आपको ट्रिगर प्राइस के साथ-साथ एक लिमिट  लगानी पड़ती है इसे हम लोग लिमिटेड ऑर्डर स्टॉप लॉस करते हैं
  •  इस आर्डर को लगाने के बाद जैसे ही आपका ट्रिगर प्राइस आएगा आपका स्टॉपलॉस ऑर्डर एक्टिव हो जाएगा और जिसके माध्यम से आप नुकसान से बच पाएंगे

Conclusion :-

आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको Stop Loss Meaning in Hindi से जुड़ी तमाम जानकारियां दी हैअगर आपको हमारा आज कहीं आर्टिकल पसंद आया है, इसे अपने व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर करना है, ताकि आपके दोस्तों को भी स्टॉप लॉस क्या है? के बारे में पता चल सके।

Related Articles :-

Leave a Comment